पोस्ट

Tik Tok ban लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Narendra Modi / नरेंद्र मोदी

चित्र
Narendra Modi / नरेंद्र मोदी
नरेंद्र मोदी एक ऐसा नाम एक ऐसा लोखंडी पुरुष जिसे दुनिया में आने वाले समय में सदियों सदियों तक याद रखा जाएगा हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के सबसे पावरफुल लोगों की लिस्ट में सबसे ऊपर है भारत का तिरंगा भारत का परचम पूरी दुनिया में लहराया है उसकी वजह है नरेंद्र मोदी
 नरेंद्र मोदी 16 से 18 घंटे काम करते हैं सिर्फ अपने देश के लिए और वे अपने वेतन में से अपना खर्चा निकाल कर बाकी बचा हुआ पैसा दान कर देते हैं नरेंद्र मोदी के आने के बाद पूरी दुनिया में भारत का नाम ऊंचा हुआ है
 भारत में कई सरकारें आई और चली गई लेकिन कुछ काम ऐसे हैं जो सिर्फ नरेंद्र मोदी ने हीं किए हैं जैसे कश्मीर से धारा 370 हटाना, धारा 35a हटाना, राम मंदिर का मसला सुलझाना, तीन तलाक, जैसे बहुत सारे काम है  जिसे करने की हिम्मत सिर्फ नरेंद्र मोदी जी ने की और उसे पूरा भी किया आज नरेंद्र मोदी पूरी दुनिया में विख्यात हो गए हैं पूरी दुनिया में सबसे लोकप्रिय नेता है पूरी दुनिया इन्हें मानती है और दुनिया के सबसे पावरफुल देश इनका आदर करते हैं
  आखिर क्या है इस बंदे में जो इसने पूरी दुनिया को झुका रखा है …

Asteroid Apophis उल्कापिंड एपोफिस क्या धरती का अंत करेगा / 99942 Apophis

चित्र
दोस्तों हमारी धरती जब से अस्तित्व में आई है तब से समय-समय पर लाखों एस्ट्रॉयड धरती पर गिरे हैं और कई बार तो कई किलोमीटर व्यास वाले बड़े एस्ट्रॉयड भी हमारी धरती पर गिरे हैं जिन्होंने धरती पर से जीवन को खत्म कर दिया था और ऐसी घटना दोबारा भविष्य में कभी नहीं होगी इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता 
ऐसा ही एक उल्कापिंड वैज्ञानिकों के अनुसार हमारी धरती से लगभग एक 31,000 किलोमीटर दूरी से गुजरने वाला है यह दूरी इतनी कम है कि इस उल्कापिंड को बिना किसी यंत्र की सहायता  से देखा जा सकता है और इस उल्कापिंड का नाम है (Apophis) एपोफिस है
 जब से वैज्ञानिको ने है इस उल्कापिंड को 19 जून 2004 मे खोजा है तब से वैज्ञानिक भी परेशान है  इस उल्कापिंड का दूसरा नाम 99942 asteroid है क्योंकि इसका ऑर्बिट पीरियड कुछ इस तरह का है कि आने वाले समय में यह उल्कापिंड धरती पर भारी तबाही मचा सकता है धरती  पर जान माल का भारी नुकसान कर सकता है जिसके आचार 2.7% है
  इस उल्का पिंड का व्यास 370 मीटर है और इसका ऑर्बिट पीरियड 324 दिन का है और वैज्ञानिकों ने इसे 19 जून 2004 में खोजा था!  वैज्ञानिकों के अनुसार यह उल्कापिंड 13 अप्रैल …

मृत्युभोज बंद होना चाहिए या नहीं मृत्युभोज एक कुप्रथा है समाज में मृत्युभोज बंद करें

चित्र
विषय: मृत्युभोज बंद होना चाहिए या नहीं

 नोट:  समाज का हर व्यक्ति इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें और ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और समाज के हर व्यक्ति के पास पहुंचाना आपका कर्तव्य है
मृत्युभोज (बार्मा): पहले के जमाने में इन कु रीति-रिवाजों को बदला नहीं जा सकता था क्योंकि समाज में इन रिवाजों के प्रति कट्टरता भरी हुई थी  लेकिन अब नई जनरेशन है नए युवा है नई दुनिया है हमें कु रस्मों को छोड़कर आगे बढ़ना है अच्छे रिवाजों को बढ़ावा देना है और कु रीति-रिवाजों को बंद करना होगा  धरती का और इंसानों का अंत कब होगा जानने के लिए यहां क्लिक करें
 ऐसे में क्या मृत्युभोज एक अच्छा रिवाज है क्या मृत्यु भोज बंद होना चाहिए मृत्यु भोज नाम सुनकर भी अजीब लगता है कि आखिर मरे हुए इंसान के नाम का भोजन कैसे ग्रहण करें किसको पसंद है 50% से ज्यादा लोगों को मृत्यु भोज खाना पसंद नहीं करते है या फिर उनको कोई न कोई बाधा जरूर होती है  आप तो जानते हैं क कोरोणा वायरस पूरी दुनिया में फैला हुआ है और यह  वायरस बहुत ही खतरनाक है  और यह बड़ी तेजी से बढ़ रहा है ऐसे में हमारी समाज इसे सीरियस नहीं ले रही है और आए दिन जबसे लॉकडाउन खुला है जित…