पोस्ट

dinosaur ka ant kaise hua लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Asteroid Apophis उल्कापिंड एपोफिस क्या धरती का अंत करेगा / 99942 Apophis

इमेज
दोस्तों हमारी धरती जब से अस्तित्व में आई है तब से समय-समय पर लाखों एस्ट्रॉयड धरती पर गिरे हैं और कई बार तो कई किलोमीटर व्यास वाले बड़े एस्ट्रॉयड भी हमारी धरती पर गिरे हैं जिन्होंने धरती पर से जीवन को खत्म कर दिया था और ऐसी घटना दोबारा भविष्य में कभी नहीं होगी इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता  ऐसा ही एक उल्कापिंड वैज्ञानिकों के अनुसार हमारी धरती से लगभग एक 31,000 किलोमीटर दूरी से गुजरने वाला है यह दूरी इतनी कम है कि इस उल्कापिंड को बिना किसी यंत्र की सहायता  से देखा जा सकता है और इस उल्कापिंड का नाम है (Apophis) एपोफिस है  जब से वैज्ञानिको ने है इस उल्कापिंड को 19 जून 2004 मे खोजा है तब से वैज्ञानिक भी परेशान है  इस उल्कापिंड का दूसरा नाम 99942 asteroid है क्योंकि इसका ऑर्बिट पीरियड कुछ इस तरह का है कि आने वाले समय में यह उल्कापिंड धरती पर भारी तबाही मचा सकता है धरती  पर जान माल का भारी नुकसान कर सकता है जिसके आचार 2.7% है   इस उल्का पिंड का व्यास 370 मीटर है और इसका ऑर्बिट पीरियड 324 दिन का है और वैज्ञानिकों ने इसे 19 जून 2004 में खोजा था!  वैज्ञानिकों के अनुसार यह उल्कापिंड 13 अप्

Dharti ka ant kaise hoga 36 करोड़ साल पहले क्या हुआ था earth and of ozone layer

इमेज
वैज्ञानिकों के अनुसार अभी तक हमारे ब्रह्मांड में सबसे ज्यादा उन्नत सभ्यता हमारी धरती पर ही रहती है और वे हम इंसान ही है  समय-समय पर हमारी धरती पर ऐसी घटनाएं घटी है जिसने धरती पर से जीवन को पूरी तरह से खत्म कर दिया दोस्तों आपको तो पता होगा कि आज से करीब 6 करोड़ साल पहले हमारी धरती पर एक Chakshu नाम का उल्कापिंड गिरा था  जिसने धरती पर से जीवन को पूरी तरह से खत्म कर दिया था इस उल्का पिंड का व्यास लगभग 12 किलोमीटर था और यह वर्तमान में मौजूद धरती पर मेक्सिको की खाड़ी में गिरा था इस उल्का पिंड ने इतनी तबाही मचाई थी की विशालकाय डायनासोर को जलाकर राख कर दिया था  इस धरती पर से उनकी प्रजाति को ही मिटा दिया  यह तबाही इतनी भयंकर थी इस घटना के बाद हजारों सालों तक आसमान में धुएं का गुबार बना रहा जिस वजह से सूर्य की रोशनी धरती तक नहीं पहुंच पा रही थी इसलिए  बचा हुआ जीवन भी पूरी तरह से खत्म हो गया  लेकिन दोस्तों आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ऐसा धरती पर पहली बार नहीं  हुआ था  इससे पहले भी एक ऐसी घटना घटी थी जिसने धरती पर से जीवन को पूरी तरह से मिटा दिया थ