पोस्ट

नासा का मंगल मिशन पहली बार 1000 किलो रजनी रोवर और Drone helicopter मंगल पर भेजा

इमेज
(NASA) नासा का मंगल मिशन: दोस्तों आप तो जानते हैं पूरी दुनिया और दुनिया की बड़ी बड़ी स्पेस एजेंसी मंगल पर जाने की और मंगल गृह पर जीवन को खोजने की होड़ लगी हुई है ऐसे में इस साल का तीसरा मंगल मिशन कल नासा ने लांच किया यह मंगल मिशन काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस मंगल मिशन में एक कार की साइज का रोवर और साथ ही एक  छोटा 2 किलो वजनी (Drone helicopter) हेलीकॉप्टर भी मंगल पर भेजा गया जहां पर यह रोवर वहां के वातावरण और मंगल ग्रह के मौसम का पता लगाऐगा! Drone helicopter aur over कितना वजनी है: यह रोवर 1000 किलोग्राम का वजन है और साथ ही ड्रोन हेलीकॉप्टर का वजन 2 किलोग्राम का है और इस रोवर पर 23 कैमरे और एक ड्रिल मशीन लगी है पहली बार नासा ने किसी रोवर में परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल किया है यह रोवर प्लूटोनियम खुर्जा से चलेगा इसी वजह से यह लगभग 10 सालों तक मंगल ग्रह पर काम कर सकेगा और इसको जरूरी ऊर्जा मिलती रहेंगी! मंगल गृह तक पहुंचने में कितना समय लगेगा: नासा के इस महत्वपूर्ण मिशन को मंगल तक पहुंचने में 7 महीने का समय लगेगा नासा का यह मिशन फरवरी 2021 में पहुंचेगा और मंगल ग्रह पर रोवर और ड्रोन हेलीकॉप्ट

Russia Asteroid Attack रूस में गिरा उल्कापिंड Asteroid Attack On Russia In Chelyabinsk 2013

इमेज
Russia asteroid attack: दोस्तों आज हम बात करेंगे 2013 में रूस के Chelyabinsk मैं गिरे उल्कापिंड के बारे में जी हां दोस्तों समय था फेब्रुअरी 2013 जब रूस के वातावरण में एक 20 मीटर व्यास वाला उल्कापिंड बड़ी तेजी से प्रवेश कर जाता है जिसके तेज आवाज और रोशनी के कारण लोगों में हाहाकार मच जाता है की आखिरी अचानक आसमान से कौन सी आफत आ गई तभी आसमान में एक जोरदार आवाज के साथ बहुत ही भयानक धमाका होता है जिसके वैज्ञानिकों के अनुसार यह उल्कापिंड धरती से लगभग 30 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट हो जाता है जिसकी वजह से जोरदार धमाका होता है और 6 शहर इस धमाके के चपेट में आ जाते हैं जिससे 7200 घर सतीग्रस्त हो जाते हैं और लगभग 1500 लोग घायल हो जाते हैं Russia chelyabinsk asteroid attack किसी उल्कापिंड के कारण इतनी तबाही रूस के इतिहास में पहली बार ऐसी घटना घटी थी ! Chelyabinsk Asteroid blast: 2013 चेल्याबिंस्क मे गिरा उल्कापिंड धरती की सतह से 30 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट हुआ था वैज्ञानिकों का कहना था कि यह स्ट्राइड 30 किलोमीटर ऊपर के बजाय अगर 8 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट होता तो आज रूस के यह शहर दुनिया के नक्शे से गायब हो जाते

धरती के करीब से गुजरा भयानक एस्टेरॉइड 24 जून उल्का पिंड 2020ND

इमेज
धरती के करीब से गुजरा भयानक एस्ट्रॉयड  दोस्तों आप तो जानते हैं कि 24 जुलाई को 2020ND नामक एक asteroid हमारी धरती के करीब से गुजरा नासा ने इस उल्कापिंड को लेकर एक हफ्ते पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी  क्योंकि यह एस्ट्रॉयड हमारी धरती से 150 मिलियन किलोमीटर दूर एस्टॉनोमिकल रेंज के अंदर से गुजरने वाला है पर साथ ही नासा ने इसे NEO की लिस्ट में रखा था NEO की लिस्ट यानी नियर अर्थ ऑब्जेक्ट  का मतलब है वह ऑब्जेक्ट जो हमारी धरती से लगभग 75 मिलियन किलोमीटर दूरी के अंदर से गुजरते हैं 24 जुलाई को यह 2020ND नामक एस्ट्रॉयड हमारी धरती से लगभग 55 मिलियन किलोमीटर दूरी से गुजरा और तब इस उल्कापिंड की रफ्तार थी 48000 किलोमीटर प्रति घंटा थी जो आमतौर से बहुत ज्यादा है वैसे आपको बता दें हर रोज कई एस्ट्रो हमारी धरती की तरफ आते हैं लेकिन वह काफी छोटे होने की वजह  हवा के घर्षण से से हवा में जलकर नष्ट हो जाते हैं  और हमारी धरती तक नहीं पहुंच पाते और बड़े एस्ट्रॉयड कभी कबार ही आते हैं जिन पर नासा जैसी बड़ी बड़ी स्पेस ऑर्गेनाइजेशन हर वक्त नजर रखती है  और हमारी धरती के नियर अर्थ ऑब

पटेल समाज क्रिकेट प्रतियोगिता बडावली 2020 सभी टीमों का रिजल्ट "बाणाकला" चैंपियन

इमेज
दोस्तों कई दिनों से चल रही पटेल समाज क्रिकेट प्रतियोगिता में आज बाणाकला ने फाइनल जीत लिया शोभा वटी पटेल समाज 2020 क्रिकेट प्रतियोगिता बडावली में खेला जा रहा था जो आज बाणाकला ने फाइनल जीत लिया  2020 क्रिकेट प्रतियोगिता इस बार बड़ावली गांव के नवयुग मंडल ने करवाई जो बड़ावली गांव में पिछले 4 दिन से खेली जा रही थी इस क्रिकेट प्रतियोगिता में शोभावती क्षेत्र पटेल समाज के कई गांवों ने हिस्सा लिया 23 जुलाई 2020 जेताना और बाणाकला दोनों के बीच फाइनल खेला गया जो बाणाकला ने पहली बार इस प्रतियोगिता को जीत कर एक नया इतिहास रचा   कुछ मैच इस प्रकार रहे..... रठोडाA✔️     v/s      लोहारिया  गाबडी    v/s       बरबडी✔️ जेतानाA✔️     v/s     बडावली A दाद             v/s     गडरा✔️ बरबडी✔️      v/s     बकावलीB बाणाकला✔️   v/s    रठोडाB जेताणाB ✔️     v/s     देवगाम बरबडी रावल✔️ v/s  बडावली B हमारे समाज में मृत्यु भोज क्यों बंद होना चाहिए यहां क्लिक करें तो वही क्वार्टर फाइनल मैच कुछ इस प्रकार रहे... बडावली   v/s  बरबडी✔️ देवगाम    v/s   जेताणा✔️ गडरा✔️     v/s    शेरे वागड

Asteroid 2020DN coming soon 24 July उल्कापिंड आ रहा है

इमेज
दोस्तों एक तरफ पूरी दुनिया 2020 में धरती पर आए कई खतरों का सामना कर रही है ऐसे में अंतरिक्ष से भी कई खतरे धरती की तरफ आ रहे हैं और 2020 में कई बार धरती के करीब से गुजर गए और 2020 में अंतरिक्ष में कई खगोलीय घटनाएं घट रही है और कई बार एस्ट्रॉयड का खतरा भी बना रहा और दूसरी तरफ दुनिया में कोरोना, एलियंस सिग्नल, यूएफओ का दिखाई देना, ऑस्ट्रेलिया  के जंगलों में लगी आग, वैश्विक महामारी, जैसी कई खतरों से जूझ रही है  नासा की चेतावनी: ऐसे में एक बार फिर नासा ने चेतावनी जारी की है कि 24 जुलाई को हमारी धरती की तरफ एक एस्ट्रॉयड आ रहा है यह 24 जुलाई को हमारी धरती के करीब से गुजरेगा दोस्तों दरअसल नासा इस एस्ट्रॉयड को कई दिनों से ट्रैक कर रहा है! यह एस्ट्रॉयड कितना बड़ा है? दोस्तों नासा के अनुसार यह एस्ट्रॉयड लंदन आई सी भी 50% बड़ा है दोस्तों आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि लंदन आई की ऊंचाई  443 फीट है और यह एस्ट्रॉयड लंदन आई से भी डेढ़ गुना बड़ा है! एस्ट्रॉयड का नाम क्या है? दोस्तों आपको बता दें नासा ने इस एस्ट्रॉयड का नाम 2020DN रखा है दोस्तों यह एस्ट्रॉयड बड़ी तेजी से हमारी धरती की तरफ बढ़ रहा ह

Comet Neowise Live धूमकेतु न्यूवाइस Comet Neowise India Time

इमेज
Comet Neowise 2020: दोस्तों आज हम आपको Comet Neowise के बारे में बताएंगे यह धूमकेतु 20 दिनों तक हमारी धरती के करीब रहेगा 14 July 2020 से 30 July 2020 तक हमारी धरती के करीब रहेगा और यह बिना किसी यंत्र के बिना किसी टेलिस्कोप के आसमान में आप इसे आराम से देख सकते हैं और आपको यह साफ नजर आएगा 23 जुलाई को यह हमारी धरती के बेहद कम दूरी पर स्थित होगा और इसी वजह से 23 जुलाई को इसे आसमान में बिल्कुल साफ देख पाओगे तो चलिए इस धूमकेतु को विस्तार से जानते हैं! Comet Neowise c/2020 f3:  इस धूमकेतु का दूसरा नाम c/2020 f3 है इसे 27 मार्च 2020 में खोजा गया इस कमेंट का ऑर्बिट पैरेट 6766 साल है यानी कि यह 6766 सालों में एक बार दिखाई देता है इसलिए इसे देखने के लिए पूरी दुनिया काफी उत्सुक है !  भारत में इसे देखने के लिए काफी लोगों को परेशानी हो रही है क्योंकि बरसात के मौसम में आसमान में बादल छाए हुए हैं इसी वजह से आसमान साफ नहीं होने की वजह से इसे देखना बहुत ही मुश्किल हो गया है इसलिए कुछ कुछ जगह पर लोग इसे देखने का दावा कर रहे है लेकिन ज्यादातर लोग इसे देख नहीं पा रहे हैं

Comet Neowis धूमकेतु न्यूवाईस आसमान में कब दिखेगा Comet C/2020 F3 Comet Neowis News

इमेज
Comet Neowis: दोस्तों कभी-कभी समय-समय पर कई ऑब्जेक्ट हमारी धरती के बेहद करीब आ जाते हैं उसमें से कई एस्ट्रॉयड होते हैं तो कहीं छोटे पिंड होते हैं तो कई धूमकेतु भी होते हैं और ऐसा ही एक धूमकेतु इस वक्त हमारी धरती के बेहद करीब है! Neowis Orbit Period And Explore:इस धूमकेतु का नाम न्यूवाईस (Neowis) है दोस्तों आपको बता दे कि इस धूमकेतु को 27 मार्च 2020 में ही खोजा गया है और इसका और विटफील्ड 6766 वर्ष है यानी कि यह 6766 साल में एक बार दिखाई देता है वैज्ञानिकों के अनुसार यह धूमकेतु 3 जुलाई को सूर्य के करीब था! कब तक दिखाई देगा: वैज्ञानिकों का मानना था  की सूर्य गर्मी से पिघल कर खत्म हो जाएगा क्योंकि यह धूमकेतु बर्फ से बना हुआ है और दोस्तों आपको बता दें कि यह धूमकेतु धरती के करीब आ चुका है 14 जुलाई से 30 जुलाई तक हमारी धरती के करीब रहेगा और हमारी धरती से इसे आप आसमान में देख पाओगे सूर्यास्त के बाद आसमान में 20 मिनट तक इसे आप देख पाओगे जिसके बाद यह धीरे-धीरे नीचे से ऊपर की ओर जाता हुआ नजर आएगा! कब दिखाई देना बंद होगा: 30 जुलाई के बाद यह धीरे-धीरे