पोस्ट

Asteroids Crater In World / Berringer Crater In Arizona And Gosses Bluff Crater In Australia

चित्र
Asteroids Crater In Worldदोस्तों आज आप जानोगे हमारी धरती के अतीत में गिरी भयानक उल्कापिंड (Asteroid) और उनके अवशेष आज भी धरती के इतिहास में गिरे उल्कापिंड और उस भयानक दृश्य से हमें अवगत कराती है और जिसे देख कर यह कुदरत हमें एहसास दिलाता है कि इस कुदरत के सामने हम इंसान कुछ भी नहीं !
Berringer Crater Arizona In USABerringer Crater Facts बहुत ही शानदार और विशाल घाटियों का घर एरीजोना का यह खड्डा (Crater) 50,000 साल पहले गिरे उल्कापिंड से बना ये खड्डा(Crater) आज पर्यटकों की पहली पसंद है यहां लगभग 160 फीट बड़ी उल्का पिंड एरीजोना की उत्तरी रेगिस्तान में गिरी थी जहां आज यह खड्डा(Crater) मौजूद है और आज इसे पूरी दुनिया मे Berringer Crater के नाम से जानते हैं विशालकाय उल्का पिंड के गिरने से यहां 1 मील  लंबा चौड़ा और 600 फीट गहरा इस विशाल खड्डे(Crater) का निर्माण हो गया barringer crater को लेकर वैज्ञानिकों का मानना है कि 50,000 साल पहले 28,000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से 160 फीट बड़ा उल्का पिंड बड़ी तेजी से हमारी धरती से टकराई थी और यह विस्फोट इतना भयानक था की हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम से 1…

2020 के उल्कापिंड जो हमारी धरती के बेहद करीब से गुजरे और धरती के लिए खतरा बन सकते थे

चित्र
दोस्तों आप तो जानते हैं कि 2020 हमारी धरती के लिए बहुत ही श्रापित साल साबित हुआ है 2020 की शुरुआत में सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में आग लगने की वजह से लाखों पेड़ पौधे और जीव जंतु जलकर नष्ट हो गए और तब से 2020 के शुरुआत से ही बहुत बुरी बुरी खबरें सुनने में आ रही है और 2020 मैं पूरी दुनिया में कोरोना महामारी जैसी वैश्विक खतरा भी मंडरा रहा है और 2020 में कई अंतरिक्ष से बाहरी ऑब्जेक्ट का खतरा भी धरती पर मंडरा रहा है और कई ऑब्जेक्ट और एस्ट्रॉयड हमारी धरती के करीब से गुजरे हैं उसमें से कुछ ऑब्जेक्ट तो धरती के लिए खतरनाक साबित भी हो सकते थे तो आज आपको नीचे कुछ ऐसे ऑब्जेक्ट के बारे में बताने वाले हैं जो 2020 में हमारी धरती के लिए खतरनाक साबित हो सकते थे और हमारी धरती से टकरा भी सकते थे !
1998 OR2 Asteroid 29 April 2020 दोस्तों आपको बता दें कि इस उल्कापिंड का डायमीटर लगभग 2.06 किलोमीटर था और इसका ऑर्बिट पीरियड 1344 दिन का है यानी कि 1344 दिन बाद यह फिर से हमारी धरती के करीब से गुजरेगा  और इस उल्कापिंड को 24 जुलाई 1998 खोजा गया था 2020 के अप्रैल महीने में यह उल्कापिंड पूरी दुनिया में सुर्खिय…

What are the of asteroid bennu hitting Earth | Bennu asteroid in hindi उल्का पिंड Bennu धरती से टकराएगा

चित्र
Asteroid Bennuदोस्तों आज हम बात करने वाले हैं एस्ट्रॉयड Bennu के बारे में एस्ट्रॉयड Bennu आने वाले समय में हमारी धरती से टकरा सकता है नासा ने इस Bennu asteroid के लिए ओसिरिस रेक्स मिशन (Oseries Rex mission) क्यों भेजा आखिर क्या है नासा के इस मिशन का मेन मकसद और इस एस्ट्रॉयड का 9 साल के बच्चे ने Bennu नाम क्यों दिया और क्या आने वाले समय में यह Asteroid Bennu हमारी धरती से टकरा जाएगा तो चलिए जानते हैं एस्ट्रॉयड बिन्नू क्यों है आखिर इतना खास और जानते हैं एस्ट्रॉयड Bennu के बारे में सारी जानकारी Discovery Of Bennuदोस्तों इस एस्ट्रॉयड को नासा ने 11 सितंबर 1999 में खोजा था और तब से 1999 RQ36 नाम दिया गया और इसी नाम से इस asteroid को सब जानते थे और तब इस एस्ट्रॉयड को धरती का सबसे करीबी एस्ट्रॉयड घोषित कर दिया गया 23 सितंबर 1999 में asteroid bennu पर कुछ खास रिचार्ज शुरू कर दिया गया जिसके बाद goldstone Deep space network ने रडार तकनीक के जरिए एस्ट्रॉयड की बहुत सारी इमेज ली गई ! 1 सितंबर 2020 को 2011 es4 एस्ट्रॉयड हमारी धरती से बेहद करीब से गुजरने वाला है एक 9 साल के बच्चे ने इस एस्ट्रॉयड का नाम…

1 September 2020 asteroid 2011 es4 coming soon asteroid धरती की तरफ आ रहा है एक बड़ा खतरा

चित्र
2011 es4 asteroid 2020दोस्तों आप तो जानते हैं कि हमारी धरती इस वक्त बहुत ही बुरे दौर से गुजर रही है क्योंकि हमारी धरती पर आए दिन कोई न कोई खतरा मंडरा रहा है ऐसे में 2020 अंतरिक्ष से भी कई खतरे हमारी धरती की तरफ आए कई एस्ट्रॉयड कई कॉमेंट हमारे धरती के करीब से गुजर गए जो अगर ये ऑब्जेक्ट अपनी दिशा में जरा सा भी फेरबदल करते तो हमारी धरती के लिए खतरा बन सकते थे और पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की महामारी जैसे वैश्विक खतरे भी मडरा रहे हैं ऐसे में एक बड़ी खबर निकल कर सामने आई है दोस्तों 1 सितंबर को हमारी धरती के बिल्कुल करीब से एक उल्कापिंड गुजरने वाला है इस उल्कापिंड का नाम asteroid 2011 es4 है!
2011 ES4 nasa asteroid 2011 es4 nasa इस एस्ट्राइड पर लगातार अपनी नजरें बनाए हुए हैं नासा ने इस उल्कापिंड को 2 मार्च 2011 को खोजा था और तब NASA के अनुसार यह asteroid 2011 es4 हमारी धरती से लगभग 0.054 AU (8,100,000 km) दूर था नासा के अनुसार इस asteroid 2011 es4 का ऑर्बिट पीरियड 416 दिन का है और यह उल्कापिंड 13 मार्च 2011 को हमारी धरती के ब…

नासा का मंगल मिशन पहली बार 1000 किलो रजनी रोवर और Drone helicopter मंगल पर भेजा

चित्र
(NASA) नासा का मंगल मिशन:दोस्तों आप तो जानते हैं पूरी दुनिया और दुनिया की बड़ी बड़ी स्पेस एजेंसी मंगल पर जाने की और मंगल गृह पर जीवन को खोजने की होड़ लगी हुई है ऐसे में इस साल का तीसरा मंगल मिशन कल नासा ने लांच किया यह मंगल मिशन काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस मंगल मिशन में एक कार की साइज का रोवर और साथ ही एक  छोटा 2 किलो वजनी (Drone helicopter) हेलीकॉप्टर भी मंगल पर भेजा गया जहां पर यह रोवर वहां के वातावरण और मंगल ग्रह के मौसम का पता लगाऐगा!
Drone helicopter aur over कितना वजनी है:यह रोवर 1000 किलोग्राम का वजन है और साथ ही ड्रोन हेलीकॉप्टर का वजन 2 किलोग्राम का है और इस रोवर पर 23 कैमरे और एक ड्रिल मशीन लगी है पहली बार नासा ने किसी रोवर में परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल किया है यह रोवर प्लूटोनियम खुर्जा से चलेगा इसी वजह से यह लगभग 10 सालों तक मंगल ग्रह पर काम कर सकेगा और इसको जरूरी ऊर्जा मिलती रहेंगी!
मंगल गृह तक पहुंचने में कितना समय लगेगा:नासा के इस महत्वपूर्ण मिशन को मंगल तक पहुंचने में 7 महीने का समय लगेगा नासा का यह मिशन फरवरी 2021 में पहुंचेगा और मंगल ग्रह पर रोवर और ड्रोन हेलीकॉप्टर लै…

Russia Asteroid Attack रूस में गिरा उल्कापिंड Asteroid Attack On Russia In Chelyabinsk 2013

चित्र
Russia asteroid attack:दोस्तों आज हम बात करेंगे 2013 में रूस के Chelyabinskमैं गिरे उल्कापिंड के बारे में जी हां दोस्तों समय था फेब्रुअरी 2013 जब रूस के वातावरण में एक 20 मीटर व्यास वाला उल्कापिंड बड़ी तेजी से प्रवेश कर जाता है जिसके तेज आवाज और रोशनी के कारण लोगों में हाहाकार मच जाता है की आखिरी अचानक आसमान से कौन सी आफत आ गई तभी आसमान में एक जोरदार आवाज के साथ बहुत ही भयानक धमाका होता है जिसके वैज्ञानिकों के अनुसार यह उल्कापिंड धरती से लगभग 30 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट हो जाता है जिसकी वजह से जोरदार धमाका होता है और 6 शहर इस धमाके के चपेट में आ जाते हैं जिससे 7200 घर सतीग्रस्त हो जाते हैं और लगभग 1500 लोग घायल हो जाते हैं Russia chelyabinsk asteroid attack किसी उल्कापिंड के कारण इतनी तबाही रूस के इतिहास में पहली बार ऐसी घटना घटी थी !Chelyabinsk Asteroid blast:2013 चेल्याबिंस्क मे गिरा उल्कापिंड धरती की सतह से 30 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट हुआ था वैज्ञानिकों का कहना था कि यह स्ट्राइड 30 किलोमीटर ऊपर के बजाय अगर 8 किलोमीटर ऊपर ब्लास्ट होता तो आज रूस के यह शहर दुनिया के नक्शे से गायब हो जाते और अ…

धरती के करीब से गुजरा भयानक एस्टेरॉइड 24 जून उल्का पिंड 2020ND

चित्र
धरती के करीब से गुजरा भयानक एस्ट्रॉयड 
दोस्तों आप तो जानते हैं कि 24 जुलाई को 2020ND नामक एक asteroid हमारी धरती के करीब से गुजरा नासा ने इस उल्कापिंड को लेकर एक हफ्ते पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी  क्योंकि यह एस्ट्रॉयड हमारी धरती से 150 मिलियन किलोमीटर दूर एस्टॉनोमिकल रेंज के अंदर से गुजरने वाला है पर साथ ही नासा ने इसे NEO की लिस्ट में रखा था NEO की लिस्ट यानी नियर अर्थ ऑब्जेक्ट  का मतलब है वह ऑब्जेक्ट जो हमारी धरती से लगभग 75 मिलियन किलोमीटर दूरी के अंदर से गुजरते हैं 24 जुलाई को यह 2020ND नामक एस्ट्रॉयड हमारी धरती से लगभग 55 मिलियन किलोमीटर दूरी से गुजरा और तब इस उल्कापिंड की रफ्तार थी 48000 किलोमीटर प्रति घंटा थी जो आमतौर से बहुत ज्यादा है वैसे आपको बता दें हर रोज कई एस्ट्रो हमारी धरती की तरफ आते हैं लेकिन वह काफी छोटे होने की वजह  हवा के घर्षण से से हवा में जलकर नष्ट हो जाते हैं  और हमारी धरती तक नहीं पहुंच पाते और बड़े एस्ट्रॉयड कभी कबार ही आते हैं जिन पर नासा जैसी बड़ी बड़ी स्पेस ऑर्गेनाइजेशन हर वक्त नजर रखती है  और हमारी धरती के नियर अर्थ ऑब्जेक्ट के अंदर से गुजरने वाले होते हैं…